Monday, February 27, 2017

डिफरेंट एंगल-27 फरवरी 2017

आध्यात्म से कैसे दूर होगा भ्रष्टाचार विधानसभा में श्रीश्री रविशंकर महाराज का प्रवचन था। एक पत्रकार साथी ने सवाल किया कि बाबा आध्यात्म से क्या भ्रष्टाचार को दूर किया जा सकता है। बाबा का जवाब था, आध्यात्म अंदर से तृप्ति पैदा करता है। जब व्यक्ति तृप्त हो जाएगा, तो संतुष्टी आ जाएगी और भ्रष्टाचार अपने आप दूर हो जाएगा। गुस्र्जी यह कहने से नहीं चूके कि इसका मतलब यह नहीं है कि दरिद्रता ही आध्यात्म है। आध्यात्म की बात करे तो बन जाते हैं सांप्रदायिक विधायक शिवरतन शर्मा ने कहा कि बाबा जब हम लोग आध्यात्म, ज्ञान, ध्यान की बात करते हैं, तो विरोधी सांप्रदायिक बता देते हैं। इसका उपाय क्या है। बाबा ने कहा कि आरोप-प्रत्यारोप लगाना तो आप लोगों का धर्म है। लगाते रहो। लेकिन आध्यात्म को मानों। विरोधियों को तो कुछ भी कहोगे, वो पलटवार तो करेंगे ही। सोचों, क्यों कम हो रहा नेताओं का गौरव श्रीश्री ने कहा कि नेताओं का गौरव कम हो रहा है। इसके बारे में सोचने की जरूरत है। तमिलनाडु की एक घटना का जिक्र किया और कहा कि एक कार्यक्रम में दो मंत्रियों को आना था। जब स्टेज से यह सूचना दी गई कि दोनों मंत्री नहीं आ रहे हैं, तो जमकर ताली बजी। अब नेताओं को सोचना चाहिए। देर से पहुंचे भूपेश तो कुर्सी के लिए खड़े रहे श्रीश्री के कार्यक्रम में भूपेश बघेल देर से पहुंचे। पहले तो वह अपनी सीट को खोजते रहे। जब नहीं मिली तो आगे से तीसरी लाइन में बैठे नेताजी को बोले, जगह खाली करो। किनारे की सीट पर बैठे और आखिरी तक श्रीश्री का प्रवचन सुने। उन्होंने योग कराया तो उसे भी किया, लेकिन बाहर निकलते ही कहा-श्रीश्री भाजपा के एजेंट हो गए हैं, इसलिए अब मैं इनको नहीं मानता। हमारे डीएनए में निष्ठा है बिहार चुनाव में पीएम मोदी ने डीएनए का जिक्र किया तो बवाल मच गया था। अब श्रीश्री ने डीएनए का जिक्र किया। शालिन तरीके से गुस्र्देव ने कहा कि हमारे डीएनए में निष्ठा है। यह निष्ठा खोने की कगार पर पहुंच गई है, इसलिए इसे बचाने की जरूरत है। जरा सोचिए गंभीर बात को बड़ी शालिनता से गुस्र्देव ने कहा, न कोई विवाद हुआ, न किसी ने विरोध किया। सबको कर्मयोगी चाहिए, लेकिन खुद कर्मयोगी क्यों नहीं बनते गुस्र्देव ने कहा कि सभी आदमी को कर्मयोगी चाहिए। ड्राइवर, पीए, सेके्रटरी सब कर्मयोगी होना चाहिए, लेकिन खुद कितने कर्मयोगी है, इसके बारे में नहीं सोचते। जब बाबा यह बात बोल रहे थ्ो, तो विधायक एक दूसरे को निहार रहे थे। पांच साल में एक बार जाते हो जनता के बीच गुस्र्देव ने कहा कि विधायक कम से कम पांच साल में एक बार तो क्षेत्र में जाते ही हैं। जब वे ऐसा कह रहे थे तो कई विधायक सदमे में आ गए कि आखिरी इनको कैसे पता, पांच साल में हम लोग एक बार ही जाते हैं। बाहर निकलने पर एक विधायक ने कहा कि लगता है गुस्र्देव सबके बारे में जानते हैं। अगर ऐसा नहीं होता तो वे कैसे डंके की चोट पर बोल सकते हैं कि पांच साल में एक बार ही हमलोग विधानसभा में जाते हैं। शराब वाले को पूछने दो श्रीश्री से जब सवाल पूछने की बारी आई तो विधायक विमल चोपड़ा खड़े तो हुए लेकिन उनके पास माइक नहीं पहुंच रही थी। इतने में एक मंत्री ने कहा कि अरे भाई, शराब वाले को पूछने दो। विमल ने पूछा कि क्या नशाबंदी के लिए जनजागरण जरूरी है या फिर नशे पर रोक। श्रीश्री ने कहा दोनों साथ-साथ चलना चाहिए। विमल कुर्ते पर शराब की बोतल बनवाकर पहुंचे थे, तो एक मंत्री ने कमेंट किया। नीचे चखने की प्लेट होती तो और मजा आ जाता।

Sunday, August 7, 2016

ये जोगी के उम्मीदों की लांचिंग है

छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी ने नई पार्टी बनाकर कांग्रेस और भाजपा दोनों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। नई पार्टी के अपने-अपने आंकलन होते हैं, लेकिन जोगी की पार्टी जिस अंदाज में मैदान में उतरी है, वह बता रही है कि जंग जारी रहेगी। चाहे वह सरकार के खिलाफ हो या फिर कांग्रेस संगठन के खिलाफ। आज जोगी की पार्टी का थीम सांग लांच किया गया। यह गीत जोगी के उस सपनों की लांचिंग है, उस उम्मीद की लांचिंग है, जिसका परिणाम 2018 के विधानसभा चुनाव में सामने आएगा। छत्तीसगढ़ की राजनीति के जानकारों की मानें तो पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की राजनीति काफी आक्रामक रही है। उनको जोड़ने, तोड़ने और फोड़ने का माहिर खिलाड़ी माना जाता है। लेकिन सत्ता से 13 साल दूर रहने के बाद जब जोगी नई पार्टी के साथ मैदान में उतरे हैं, तो उनके कदम बेहद सधे हुए हैं। जोगी जब थीम सांग की लांचिंग कर रहे थे, तो पत्रकारों का अधिकांश समूह यही चर्चा कर रहा था कि ये जोगी की स्टाइल नहीं है। उम्मीद, सपने और सौम्य अंदाज में पेश आही राज, जनता कांग्रेस के आही राज थीम सांग को सुनकर अधिकांश लोग यही कह रहे थे कि अब जोगी की सोच में बदलाव आया है। कहा जा रहा है कि जोगी अब जोड़ने के लिए काम कर रहे हैं, जो उनके स्वभाव और कार्यशैली से काफी अलग है। जोगी को जानने वाले नेताओं का तो यहां तक कहना है कि साहब ने अपने काम के तरीके में पिछले छह महीने में जोरदार बदलाव किया है। अब वो भी 14 से 16 घंटे काम कर रहे हैं। बंद कमरे में उनके रणनीतिकार देर रात तक मंथन करते हैं और एक-एक कैंपेन को प्लान कर रहे हैं। जोगी के करीबी नेताओं की मानें तो जोगी ने नई पार्टी के गठन की शुस्र्आत फरवरी से ही शुरू कर दी थी। उसी समय उनको अंदाजा लग गया था कि अब अलग चलने में ही वजूद बचेगा। अब जोगी छत्तीसगढ़ में अपने वजूद की आखिरी लड़ाई लड़ने के लिए मैदान में है। यही कारण है कि धरना और आंदोलन में किसी युवा नेता की तरह सड़क पर उतर जा रहे हैं। कहीं भी कंबल बिछाकर सड़क पर लेट जा रहे हैं। यह सब जोगी के रणनीतिकारों की सधी हुई और मीडिया को आकष्र्ाित करने की रणनीति का हिस्सा है। यह सच है कि जोगी की पार्टी में चेहरा भी अजीत जोगी है, कानून भी अजीत जोगी है और सरकार भी अजीत जोगी है। ऐसे में इसी चेहरे को 2018 तक इतना मजबूत करने की कोशिश की जा रही है कि कांग्रेस के नेताओं का कद उनके सामने टिक न पाए और अगर सरकार विरोधी लहर का फायदा उठाने का मौका मिले तो वह जोगी कैंप की झोली में गिरे।

Monday, June 6, 2016

मौलिक चिंतन से दूर जोगी के सिपहसलार, केजरी-कन्हैया के विचार चुराए

मृगेंद्र पांडेय अजीत जोगी ने भले ही नई पार्टी बनाने की तैयारी कर ली हो, लेकिन उनके सिपहसलार मौलिक चिंतन से काफी दूर हैं। कोटमी के सभा में जो पर्चे बांटे गए, उसमें जोगी की मौलिकता नजर नहीं आ रहीहै। जोगी की पार्टी का संभावित नाम छत्तीसगढ़ अपना दल होगा। उत्तर प्रदेश में सोनेलाल पटेल की पार्टी का नाम अपना दल है। सोनेलाल की बेटी अनुप्रिया पटेल ने पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा के साथ गठजोड़ करके भदोही से लोकसभा सीट भी जीती है। सोनेलाल को जानने वाले साफ कहते हैं कि सिर्फ सवर्णों का विरोध करके पूरी जिंदगी अपनी नेतागिरी चमकाते रहे। ऐसे में क्या जोगी का एजेंडी भी सवर्ण विरोधी होगा। जोगी ने बसपा का टैगवर्ड सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय को चुना है। इसमें भी छत्तीसगढ़ियां कोई भी शब्द शामिल कर सकते थे, लेकिन वे सिर्फ बातों से ही छत्तीगढ़ियां राग अलाप रहे हैं। माना जा रहा है कि वे दलित और पिछड़ों पर फोकस राजनीति को बढ़ावा देंगे। उनके घोषणा पत्र में जेएनयू के छात्रसंघ्ा अध्यक्ष कन्हैया का आजादी वाला राग भी शामिल है। कन्हैया ने तो मौलिक आजादी का सवाल उठाया था, लेकिन जोगी के करीबी नेताओं ने इसे अपने घोषणा पत्र में शामिल करके बता दिया कि वे कुछ भ्ाी नया नहीं करने जा रहे हैं। सीजी खबर में एक आर्टिकल में अन्वेषा गुप्ता ने भी लिखा है कि छत्तीसगढ; में अजीत जोगी के पास ऐसे कौन से मुद्दे हैं जिनके बल पर वे कांग्रेस व भाजपा का विकल्प पेश कर सकते हैं. उनके पुत्र अमित जोगी द्वारा केवल यह कह देना कि जनता का समर्थन उ)की सबसे बड;ी संपत्ति है कह देना आज के राजनीतिक दौर में नाकाफ;ी है. जनता उसे वोट देती है जिसमें उसे अपनी बेहतरी की उम्मीद होती है. रमन सिंह या भूपेश बघेल की आलोचना करना उन्हें 2018 के विधानसभा में वोट नहीं दिला सकता है. जोड;-तोड; करके तो हरगिज भी 90 सदस्यीय छत्तीसगढ; विधानसभा में बहुमत हासिल नहीं किया जा सकता है. कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि छत्तीसगढ़ के मरवाही विधानसभा में अमित जोगी ने भले ही 40 हजार से ज्यादा वोट से जीत दर्ज की हो, लेकिन उसी मरवाही की पहली बैठक में सिर्फ दस हजार लोग ही पहुंचे। कांग्रेसी मान रहे हैं कि बाकी 30 हजार से ज्यादा वोटर कांग्रेसी है, जो कांग्रेस उम्मीदवार होने के कारण अमित जोगी के साथ थे। ऐसे में यह संदेश साफ है कि जोगी की एकला चलो की राह आसान नहीं है।

Thursday, May 12, 2016

चुटकी लेने वाले राज्यपाल क्या बचा पाएंगे गरिमा

मृगेंद्र पांडेय छत्तीसगढ़ में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की जाति को लेकर कांग्रेस ने मोर्चा खोला है। सड़क से लेकर हर अभियान में कांग्रेस का एक ही मुद्दा है और वह है जोगी की जाति। प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल और कांग्रेसी राज्यपाल को मिले और जोगी की जाति के मुद्दे पर ज्ञापन सौंपा। एक दिन बार राजभवन से जो विज्ञप्ति जारी हुई उसे राज्यपाल की गरिमा के अनुरूप नहीं माना जा सकता। राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि यह विज्ञप्ति किसी पार्टी के एक नेता की हो सकती है, लेकिन किसी राज्य के संवैधानिक प्रमुख की तरफ से अगर इस तरह की विज्ञप्ति जारी होती है, तो उसे राज्यापाल की गरिमा के अनुकूल नहीं माना जा सकता। राजभवन से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, प्रतिनिधि मंडल द्वारा व्यक्ति विशेष के जाति प्रमाण पत्र के संबंध में कार्रवाई के लिए ध्यान आकर्षित कराए जाने पर चुटकी लेते हुए राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि यह मामला तो घर का है इसे अपने स्तर पर सुलझा सकते हैं। क्या किसी संवैधानिक प्रमुख को इस तरह का बयान देना चाहिए। अगर ऐसा नहीं है तो क्या राजभवन की गरिमा को गिराने का काम नहीं किया जा रहा है। यह हो सकता है कि राज्यपाल को दिखाए बिना ही यह विज्ञप्ति जारी कर दी गई हो, लेकिन जब तक जिम्मेदार पर कोई कार्रवाई नहीं होगी, यह सवाल उठता रहेगा। http://dprcg.gov.in/884-12-05-2016 यह है राजभवन से जारी विज्ञप्ति राज्यपाल श्री बलरामजी दास टंडन से गत दिवस यहां राजभवन में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री भूपेश बघेल के नेतृृत्व में प्रतिनिधि मंडल ने भेंट कर फर्जी जाति प्रमाण पत्र के प्रकरणों में त्वरित कार्रवाई के संबंध में ज्ञापन सौंपा। राज्यपाल श्री टंडन ने प्रतिनिधि मंडल को बताया कि राज्य सरकार फर्जी जाति प्रमाण पत्र के मामले पर पूरी गम्भीरता और तत्परता से कार्रवाई कर रही है। उन्होंने बताया कि सरकार को इस संबंध में लगभग 550 शिकायतें मिली थी। विजिलेंस कमेटी द्वारा इनमें से लगभग 375 मामलों की विवेचना की गई और 184 मामलों में शिकायतें सही पाई गई है। हाईपावर कमेटी की अनुशंसा पर 25 मामलों में राज्य सरकार द्वारा कार्रवाई करते हुए संबंधितों को नौकरी से निकाला गया है। शेष मामले उच्च न्यायालय में लंबित हैं। प्रतिनिधि मंडल द्वारा व्यक्ति विशेष के जाति प्रमाण पत्र के संबंध में कार्रवाई के लिए ध्यान आकर्षित कराए जाने पर चुटकी लेते हुए राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि यह मामला तो घर का है इसे अपने स्तर पर सुलझा सकते हैं। प्रतिनिधिमंडल से चर्चा के दौरान राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि ऐसे विशिष्ट मामले जिन पर कार्रवाई नहीं की गई हो बताएं, ताकि उन पर कार्रवाई की जा सके। उन्हांेने कहा कि हाईकोर्ट में सरकार की ओर से सही पक्ष नहीं रखने के संबंध में प्रमाण सहित जानकारी उपलब्ध कराएं जिससे कि सरकार को इस संबंध में अवगत कराया जा सके। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल द्वारा पूर्व में प्रेषित अपने 6 सूत्रीय ज्ञापन में से व्यक्ति विशेष के फर्जी जाति प्रमाण पत्र से संबंधित बिन्दु पर ही जोर दिया जा रहा था। राज्यपाल द्वारा अनेक बार यह कहने पर कि इसके अलावा कोई नई बात हो तो समक्ष में लाएं किन्तु प्रतिनिधि मंडल ने अन्य बिन्दुओं का जिक्र नहीं किया। ज्ञापन में प्रदेश में आउट सोर्संिग, वन अधिकार अधिनियम, पांचवी अनुसूची, अधिसूचित क्षेत्रों में पेसा एक्ट आदि बिन्दुओं का समावेश किया गया था। अंत में प्रतिनिधि मंडल द्वारा समक्ष में राज्यपाल को सौंपे गए ज्ञापन में फर्जी जाति प्रमाण पत्र संबंधित 338 प्रकरणों की सूची संलग्न की गई।

Thursday, May 5, 2016

विवादों वाले ब्यूरोक्रेट्स, नबंर वन छत्तीसगढ़

मृगेंद्र पांडेय भारतीय प्रशासनिक सेवा के अफसरों को लेकर छत्तीसगढ़ एक बार फिर सुर्खियों में है। हाल ही में एक के बाद एक ऐसे आईएएस अफसर विवादों में आए हैं, जो नए हैं और जिनसे कुछ बेहतर करने की उम्मीद है। ये अफसर अब अपने अच्छे काम से नहीं, बल्कि विवादों के कारण पहचान बना रहे हैं। एक सीनियर आईएएस अधिकारी ने कहा कि छत्तीसगढ़ की ब्रांडिंग नंबर वन के रूप में की जा रही है, इसलिए नए नवेले आईएएस विवादों में लाकर नंबर वन बनवा रहे हैं। सवाल है कि आखिर ये अफसर विवादों में क्यों आ रहे हैं। क्या इनका प्रशिक्षण कमजोर हो गया है, या फिर आईएएस बनने के बाद ये खुद को लोकतंत्र में राजा की जगह रखकर देखने लगे हैं। छत्तीसगढ़ में एक अफसर रणबीर शर्मा कुछ स्र्पए की रिश्वत के मामले में फंस जाते हैं। जगदीश सोनकर डाक्टर होने के बावजूद मरीज से बेअदबी से पेश आते हैं। अमित कटारिया जैसा सुलझा हुआ अफसर पर प्रधानमंत्री को रिसिव करने जाता है, तो प्रोटोकाल का पालन नहीं करता है और किरकिरी होती है। एलेक्स पाल मेनन काफी समझदार माने जाते हैं। सोशल मीडिया पर एक्टिव है। दलित चिंतन से लेकर समाज में बदलाव पर नजर रखते हैं, लेकिन जिस कन्हैया का केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की भाजपा सरकार विरोध कर रही है, उसका समर्थन करते हैं। खास बात यह है कि कलेक्टर को ही कानून का पालन कराने की जिम्मेदारी है। जबकि ये कलेक्टर कानून का ही सोशल मीडिया पर विरोध कर रहे हैं। मेरा सवाल यह है कि क्या ये आईएएस अफसर अपने अच्छे काम के जरिए पहचान नहीं बना सकते हैं। देश की सर्वोच्च सेवा के लिए चयनित अगर कोई अफसर 500 या हजार स्र्पए के लिए गरीब जनता को प्रताड़ित करता है, तो उसे इस नौकरी में आना ही नहीं था। मेरे व्यक्तिगत विचार हैं कि पैसा कमाने के लिए और भी कई रोजगार हो सकते हैं। नए अफसरों को यह भी सोचना चाहिए कि अब सरकार इतनी तनख्वाह दे रही है कि रिश्वत मांगने की शायद जरूरत नहीं है। मेरे के साथी ने यह पोस्ट किया कि ये तस्वीर उस यूपीएससी के गाल पर करारा तमाचा है जो सिविल सर्विसेज की प्रारंभिक परीक्षा में उम्मीदवारों के सिविल सर्विस एप्टीट्यूट और मेन परीक्षा के जनरल स्टडीज पेपर-4 में उम्मीदवारों के इथिक्स, इंटीग्रीटी और एप्टीट्यूट को को परखता है। मुझे भी लगता है कि इन अफसरों का चयन करने वालों को भी एक बार सोचना चाहिए कि क्या उनको प्रशिक्षण देने में कहीं चूक हुई है। क्या सरकार की जिम्मेदारी नहीं होती कि इनको कुछ सिखाएं। अगर सरकार सिखाने में असफल है, तो उसे पद पर बने रहने का कोई हक नहीं है। ऐसी सरकार और सरकार को चलाने वाले ब्यूरोक्रेट एक बार फिर अपनी जिम्मेदारी और अपने काम करने के तरीके के बारे में जरूर सोचें। नहीं तो ऐसा ही होगा कि कोई नेता या मंत्री लोकसुराज जैसे अभियान में किसी आईएएस को मुर्गा बना देगा और जनता ताली पीटेगी।

Thursday, April 28, 2016

टूट रहा था जज्बा, बेटे ने कहा-आखिरी चांस है मां, दे दो पीएससी

बेटे की जिद से 47 साल की मां ने किया पीएससी टॉप इंटरव्यू के छह घंटे में पीएससी ने घोषित किया परिणाम, आभा तिवारी टॉपर मृगेंद्र पांडेय टॉपर आभा तिवारी का जज्बा अपनी बेटी की बीमारी के कारण टूट रहा था, लेकिन जब उनके बेटे ने यह कहा कि मां आखिरी चांस है, पीएससी दे ही दो, तो आभा खुद को रोक नहीं पाई। 47 साल की उम्र में आभा का जोश आज किसी कालेज टॉपर से कम नजर नहीं आ रहा था। नईदुनिया से चर्चा में आभा ने कहा कि अगर उनका बेटे मोटिवेट नहीं करता, तो आज वो घर पर ही बैठी रहतीं। आभा ने बतााया कि पिछले दस साल से अपनी बेटी की बीमारी को लेकर परेशान थी। जब बच्ची की मौत हुई, तो वह टूट सी गई। लेकिन हिदायतउल्ला नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले उनके बेटे ने ढांढस बंधाया और पीएससी की तैयारी में मदद की। आभा ने बताया कि लोक प्रशासन, इतिहास और संविधान की पढ़ाई उनके बेटे ने कराई। वे तीन बार से पीएससी की परीक्षा दे रही थी, लेकिन पहली बार में चयन डिप्टी कलेक्टर के पद पर हुआ। वे कत्थक नृत्यांगना हैं और बिरजू महाराज की शिष्य हैं। आभा गरियाबंद कालेज में पढ़ाती थी, लेकिन पिछले तीन साल से घर में ही तैयारी कर रहीं थी। आभा ने बताया कि पीएससी की तैयारी करने वाले परीक्षार्थियों को मेहनत और लगन के साथ तैयारी करनी होगी। आभा तिवारी के पति दिवाकर तिवारी सहायक आबकारी अधिकारी हैं और उनके भाई सेंट्रल एक्साइज कमिश्नर अजय पांडे हैं। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग ने राज्य सेवा परीक्षा 2014 का परिणाम गुस्र्वार शाम को जारी कर दिया, जिसमें रायपुर की गृहणी आभा तिवारी ने टॉप किया। राज्य सेवा के 325 पदों के लिए हुई परीक्षा का इंटरव्यू गुस्र्वार दोपहर डेढ़ बजे खत्म हुआ और शाम सात बजे परिणाम घोषित कर दिया गया। पीएससी ने पहली बार राज्य सेवा परीक्षा के परिणाम इंटरव्यू के छह घंटे बाद घोषित किया है। टॉप टेन में पांच सामान्य वर्ग और पांच पिछड़े वर्ग के उम्मीदवार हैं। इसमें दो डीएसपी, दो डेंटल डॉक्टर और तीन कमर्शियल टैक्स इंस्पेक्टर हैं। परीक्षा नियंत्रक एके मिश्रा ने बताया कि आभा तिवारी परीक्षा में 947 अंक प्राप्त करके पहले स्थान और स्निग्ध तिवारी 883 अंक के साथ दूसरे स्थान पर रही हैं। तीसरे स्थान पर भूपेंद्र कुमार साहू, चौथे योगेंद्र श्रीवास, पांचवे आनंद स्र्प तिवारी, छठवें राकेश गोलछा, सातवें विकास कुमार नायक, आठवें प्रदीप कुमार, नौवें मनीष साहू और दसवें स्थान पर ओंकार यादव का चयन हुआ है। किसान की बेटी दूसरे स्थान पर, डीएसपी हैं स्निग्धा, चंदखुरी में ले रही है ट्रेनिंग बिलासपुर के एक साधारण किसान परिवार की डॉ स्निग्ध तिवारी दूसरे स्थान पर हैं। इससे पहले उनका चयन डीएसपी पद पर हुआ था। स्निग्धा ने बताया कि वर्ष 2013 की पीएससी में उनका 32वां रैंक था। वर्तमान में वे पुलिस अकादमी चंदखुरी में प्रशिक्षण ले रही है। बीडीएस डाक्टर स्निग्धा का कहना है कि परीक्षा की तैयारी कर रहे परीक्षार्थी लक्ष्य निर्धारित करें। रोज टार्गेट करके पढ़ाई करेंगे, तभी सफलता मिलेगी। उन्होंने अपनी मां को प्रेरणा श्रोत बताया। उनके पिता किसान हैं। कमर्शियल टैक्स की छोड़ी नौकरी, बना डिप्टी कलेक्टर कोरबा के रहने वाले भूपेंद्र साहू का पीएससी में तीसरे स्थान पर चयन हुआ है। पिछली बार कमर्शियल टैक्स इंस्पेक्टर के पद पर चयन हुआ था, लेकिन डिप्टी कलेक्टर बनने के लिए ही उन्होंने इसे ज्वाइन नहीं किया। एनआईटी रायपुर से बीटेक करने वाले भूपेंद्र वर्तमान में एनटीपीसी सीपत में मैनेजर हैं। इनका कैंपस सलेक्शन हुआ था। भूपेंद्र ने बताया कि वर्ष 2013 की पीएससी में वे 77वें रैंक पर थे। उन्होंने बताया कि सफलता के लिए सोच, संकल्प और क्रियान्वयन की जरूरत है। पूरी इमानदारी से प्लानिंग के साथ तैयारी करने पर सफलता मिलती है। विजन क्लियर होने पर सफलता जरूर मिलती है। लगातार तीसरी बार हुआ चयन चौथे स्थान पर चयनित योगेंद्र श्रीवास का लगातार तीसरी बार पीएससी में चयन हुआ है। पहली बार अकाउंट अफसर, दूसरी बार डीएसपी और अब डिप्टी कलेक्टर के पद पर चयन हुआ है। योगेंद्र वर्तमान में पुलिस अकादमी चंदखुरी में डीएसपी का प्रशिक्षण ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि पिछले पांच-छह साल से सक्रिय थे और लगातार प्रयास कर रहे थे। पिछली बार डीएसपी के पद पर चयन होने के बाद भी तैयारी नहीं छोड़ी और आज सफलता मिली है। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय बड़े भाई नरेंद्र नाथ श्रीवास को दिया है। श्रीवास ने बताया कि सोशल मीडिया से दूर रहा और सिर्फ पढ़ाई पर फोकस करने के कारण सफलता मिली है। डेंटल डाक्टर ने दूसरी बार में मारी बाजी रायपुर डेंटल कालेज में 2014 बैच में पास हुए डॉ विकास नायक ने दूसरी बार में ही बाजी मार ली। पहली बार पीएससी के इंटरव्यू तक पहुंचे थे, लेकिन चयन नहीं हुआ। इस बार सातवें स्थान पर चयन हुआ। बलौदाबाजार के रहने वाले विकास ने बताया कि पिछले तीन साल से तैयारी कर रहे थे। हार्ड वर्क और लगातार तैयारी से ही सफलता मिलती है। उनके पिता केएल नायक अंबुजा सीमेंटर में पदस्थ हैं। पीएससी में दूसरे स्थान पर चयनित डा स्निग्धा और विकास दोनों डेंटल कालेज में एक ही बैच में थे। कभी सोचा नहीं था टॉप टेन में आऊंगा कोंडागांव के प्रदीप कुमार बैद ने आठवां स्थान प्राप्त किया। इससे पहले वर्ष 2012 पीएससी में कमर्शियल टैक्स इंस्पेक्टर के पद पर चयन हुआ था। प्रदीप ने बताया कि उन्होंने कभी सोचा नहीं था कि वे टॉप टेन में आएंगे। उनके पिता पीडब्ल्यूडी में पदस्थ्ा है। उनका कहना है कि पीएससी के लिए धैर्य रखना होगा। पूरी लगन के साथ तैयारी करने में सफलता जरूरत मिलती है। हर बार बढ़ा पद पीएससी में नौंवा स्थान प्राप्त करने वाले मनीष साहू ने लगातार प्रतियोगी परीक्षा पास की और हर बार उनका पद बढ़ता गया। डायरेक्ट्रेट में आदिम जाति कल्याण विभाग में पदस्थ प्रदीप इससे पहले असिस्टेंट कमांडेंट, उत्तर प्रदेश के बनारस नगर निगम में असिस्टेंट कमिश्नर के पद पर रह चुके हैं। भाठापारा निवासी प्रदीप ने बताया कि वर्ष 2010 में उनका चयन सीआईएसएफ में असिस्टेंट कमांडेंट के पद पर हुआ था। उसके बाद से ही वे परीक्षा दे रहे हैं। उनके पिता ग्रामीण बैंक खरोरा में पदस्थ हैं। प्रदीप की बहन कल्पना साहू ने 31 रैंक प्राप्त किया है। कल्पना अभी एक्साइज इंस्पेक्टर हैं और गरियाबंद में पदस्थ हैं। अनुकंपा नियुक्ति में बना था क्लर्क पीएससी में दसवां स्थान प्राप्त करने वाले बिलासपुर के ओंकार यादव अपने पिता की मौत के बाद अनुकंपा नियुक्ति में क्लर्क बने थे। उस समय ही उन्होंने तय किया कि वे एक दिन अधिकारी बनेंगे। वर्ष 2006 और 2008 की पीएससी में ओंकार ने इंटरव्यू दिया, लेकिन चयन नहीं हुआ। वर्ष 2013 की पीएससी में उनका चयन कमर्शियल टैक्स इंस्पेक्टर के रूप में हुआ। ओंकार ने बताया कि उनके पिता तहसीलदार थे, जब उनकी मौत हुई तो अनुकंपा नियुक्ति के रूप में क्लर्क की नौकरी मिली थी। उन्होंने बिना कोचिंग के पढ़ाई की और टाइम मैनेजमेंट करके सफलता अर्जित की। तीन बोर्ड में 18-18 उम्मीदवारों का इंटरव्यू छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग (छग पीएससी) 2014 के लिए इंटरव्यू चार अप्रैल से शुरू हुआ। 17 दिन तक चले इंटरव्यू में 891 अभ्यार्थी को शामिल होना था, लेकिन दो अभ्यार्थी अनुपस्थित रहे। पीएससी चेयरमैन आरएस विश्वकर्मा ने बताया कि इंटरव्यू के लिए तीन बोर्ड बनाया गया था, जिसमें 18-18 उम्मीदवारों का एक दिन में इंटरव्यू किया गया। इंटरव्यू सुबह 9 बजे और दोपहर 1 बजे तक दो पॉलियों में हुआ। मुख्य परीक्षा नवंबर 2015 में आयोजित की गई थी। इसमें 32 सौ से ज्यादा अभ्यार्थी शामिल हुए थे। टॉप 10 आभा तिवारी-गृहणी डॉ स्निग्धा तिवारी-डीएसपी-डेंटल डाक्टर भूपेंद्र साहू-कमर्शियल टैक्स इंस्पेक्टर योगेंद्र श्रीवास-डीएसपी डा विकास कुमार नायक-डेंटल डाक्टर प्रदीप कुमार बैद-कमर्शियल टैक्स इंस्पेक्टर ओंकार यादव-कमर्शियल टैक्स इंस्पेक्टर

Friday, March 18, 2016

संघ में निकर था, निकर में संघ कभी नहीं रहा

मृगेंद्र पांडेय संघ्ा के हाफ पैंट को बदलने की पूरे देश में चर्चा है। लोग जानना चाहते हैं कि आखिर ये बदलाव क्यों किया गया। इस बदलाव के पीछे संघ की क्या सोच है। क्या राजनीतिक सोच से प्रेरित होकर यह कदम उठाया गया है। दरअसल, संघ की नागौर प्रतिनिधि सभा में यह प्रस्ताव पेश किया गया। इसके बाद से देशभर में चर्चाओं का दौर शुरू हुआ। अभी तक संघ की तरफ से कोई स्पष्ट बयान नहीं आया कि आखिर संघ्ा के निकर को क्यों बदला गया। संघ की वेशभूषा के संबंध में पूछे गए सवाल के जवाब में छत्तीसगढ़ के सह प्रांत संघ चालक ने कहा कि कुछ समय के लिए निकर को ब्रांड बना दिया गया था। संघ में निकर था। निकर में संघ कभी नहीं रहा। उन्होंने स्पष्ट किया कि संघ की वेशभूषा में कई बार बदलाव किए गए हैं। इसमें खाकी के स्थान पर सफेद कमीज, जूते, बेल्ट, टोपी आदि शामिल हैं। इसी कड़ी में निकर के स्थान पर फुल पैंट को अपनाया जा रहा है। हाफ पैंट से कई स्थानों पर दिक्कतें आ रही थीं, जिसे देखते हुए बदलाव किया गया है। देश में संघ अपने गणवेश को लेकर अलग पहचान रखता है। माना जा रहा है कि युवा वर्ग को आकर्षित करने के लिए संघ ने इस बदलाव को स्वीकार किया है। देश में 60 फीसदी युवा वोटर हैं, जिनका संघ के प्रति स्र्झान कम हो रहा था। इसमें एक बड़ा कारण गणवेश को माना जा रहा है। संघ के पदाधिकारियों की मानें तो गणवेश में उन सभी चीजों को स्वीकार किया गया है, जो अब भी सिंबल के रूप में संघ्ा की पहचान है। संघ के सामने सबसे बड़ी चुनौती युवाओं को जोड़ने और आरक्षण के भ्रम को दूर करने की है। देशभर में संघ्ा के पदाधिकारी पत्रकारवार्ता करके यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि संघ्ा आरक्षण के खिलाफ नहीं है। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में डॉ. पूर्णेंदु सक्सेना ने आरक्षण के मुद्दे पर कहा कि लंबे समय तक एक बड़े वर्ग के साथ सामाजिक स्तर पर भेदभाव हुआ। इन्हें बराबरी में लाने के लिए आरक्षण का प्रावधान किया गया। संघ का यह स्पष्ट मत है कि जब तक यह वर्ग हृदय से अनुभूति नहीं करता कि वे बराबरी पर आ गए हैं, तब तक आरक्षण लागू रहना चाहिए। इसमें किसी तरह का विरोध नहीं है। दरअसल पूरी कोशिश यह स्पष्ट करने की है कि संघ आरक्षण के खिलाफ नहीं है। इसके बाद संघ के सामने सबसे बड़ी चुनौती के रूप में कन्हैया और उनके जैसे नेता आए हैं। जो संघ से आजादी की मांग कर रहे हैं। अब इन नेताओं को संघ यह कहकर प्रचारित कर रहा है कि वामपंथ की विचारधार से भटके हुए हैं। डा सक्सेना ने साफ कहा कि जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया देशद्रोही है और उनके सभी समर्थकों भी देशद्रोही हैं। वामपंथी सभी तरह के धार्मिक विचारों का विरोध करते हैं। वह हिंदुओं का जितना विरोध करते थे, उतना मुल्लाओं का भी करते थे। जबकि जेएनयू छाप कन्हैयावादी नगालैंड, मणिपुर और कश्मीर के पथभ्रष्ट और संकीर्ण सोच वाले युवाओं को समर्थन देते हैं। ये सभी शुद्ध रूप से देशविरोधी हैं। ये बिल्कुल नहीं चाहते कि देश में स्थायी सरकार या संघ जैसी देशप्रेमी संस्था रहे। अब देखना होगा कि कन्हैया जैसे युवाओं की पकड़ को कमजोर करने के लिए संघ की तरफ से क्या पहल की जाती है।